सोमवार, 15 जनवरी 2018

लोकतंत्र खतरे में


तुम रस्सी के उधर रहो, मैं रहूँ प्रिये उस ओर|
लोकतंत्र खतरे में पड़ गया, यही मचायें शोर|
लेखक या साहित्यकार बन, लौटा दें ईनाम|
या फिर जज बन कांफ्रेंस करें, पलटा दें हम्माम|


कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

शनिवार, 13 जनवरी 2018

अभिमन्यु



अर्जुन होना जीवन रण में नहीं बहुत आसान|
कृष्ण सारथी होंगे जिसके जिये वही मैदान|
जीवन के हर चक्रव्यूह का मैं ही द्रोणाचार्य|
निज वध को अभिमन्यु बनूं मैं इतना भी अनिवार्य|
उर में बचकानापन हावी बुद्धि अधूरा ज्ञान|
उतर पड़ा हूँ महासमर में क्या राखे भगवान?
 





कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

प्रिये

मत बिस्तर अभी उघाड़ प्रिये, 
हैं काँप रहे सब हाड़ प्रिये|
इतना मत खोल किवाड़ प्रिये, 
है शीती रही दहाड़ प्रिये|
वो देखो पेड़ों की चोटी, 
कुहरे का खड़ा पहाड़ प्रिये|
ये ओला भरी रजाई है, 
या गारे भरा तगाड़ प्रिये|
जो फर्श बर्फ की सिल्ली है, 
इसका कुछ करो जुगाड़ प्रिये|
थोड़ी सी आग जला दो तुम, 
इतना तो कर दो लाड़ प्रिये|





कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

शुक्रवार, 12 जनवरी 2018

विक्रमशिला



यह स्थान बिहार के भागलपुर जिले में स्थित था| यहाँ गंगा नदी के किनारे एक विख्यात महाविहार था जिसकी स्थापना पाल शासक धर्मपाल ने की थी| 11वीं शताब्दी में यह महाविहार एक विश्वविद्यालय के रूप में विकसित हो गया| प्रसिद्ध विद्वान आतिश दीपंकर ने यहाँ शिक्षा ग्रहण की थी| 13वीं शताब्दी में बख्तियार खिलजी ने इस महाविहार को नष्ट कर दिया|   




कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

नवद्वीप या नदिया



यह स्थल मध्यकाल में बंगाल की राजधानी रहा है| 1204-05 में मुहम्मद गोरी के सिपहसालार इख्तियारुद्दीन-बिन-बख्तियार खिलजी ने जब बंगाल की राजधानी नदिया में प्रवेश किया तो यहाँ का शासक लक्ष्मणसेन भाग खड़ा हुआ| 1485 में यहीं चैतन्य महाप्रभु का जन्म हुआ था, जो कि प्रसिद्ध कृष्णभक्त थे| यह स्थान न्यायशास्त्र के अध्ययन का प्रमुख केंद्र था| 





कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

नगर


वर्तमान में राजस्थान टोंक जिला माना जाता है महाभारतकालीन कार्कोट नगर है| यहाँ से दूसरी व तीसरी शताब्दी के ब्राह्मी लिपि में अंकित “मालवानामजयः” नाम से एक लेख मिला है| यहाँ से आहत एवं गोल तथा चौकोर मालव सिक्के मिले हैं| 



कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

देवल



यह स्थल आजकल समुद्र में डूब गया है, किन्तु किसी समय यह सिन्धु नदी के मुहाने पर स्थित एक बन्दरगाह था| इसे दीदूल सिंध के नाम से भी जाना जाता है| मोरलैण्ड ने “इंडिया ऐट द डेथ ऑफ़ अकबर” में लिखा है कि मानसून की दृष्टि से इस बन्दरगाह की स्थिति ठीक नहीं थी| 





कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

हमारीवाणी

www.hamarivani.com