रविवार, 17 जून 2012

मेरी स्थिति

अपने आपु खोदी नींव अपने आपु भरी।
अपने आपु जोरी जो दिवाल गिरि परी।
बात नाईं मानी कबहुं कोई केरी।
कामधेनु तजि के दुहाइ लई छेरी।
बीबी कानु पकरे और बच्चा सिर चढ़े।
जैसो उन पढ़ाओ है तैसो हम पढ़े।

लेखक की इस ब्लॉग पर पोस्ट सामग्री और अन्य लेखन कार्य को पुस्तक का आकार देने के इच्छुक प्रकाशक निम्नलिखित ईमेल पतों पर सम्पर्क कर सकते हैं।

vkshuklapihani@gmail.com
vimalshukla14@yahoo.in

हमारीवाणी

www.hamarivani.com