सोमवार, 30 अक्तूबर 2017

jan dhan khata जन धन खाता

बुधवार, 25 अक्तूबर 2017

स्वयं की झनकार के प्रति



20/10/2017
जन्म लेना एक वचन था जो किया संसार के प्रति।
माँ, पिता, गुरु, देवगण द्वारा किये उपकार के प्रति।
और हम विस्मृत किये निज स्वार्थ में ही जी रहे हैं,
दण्ड क्या देगा विधाता हो रहे अपकार के प्रति।
त्यागकर कर्त्तव्य का पथ पग कुपथ में दे दिये,
किन्तु अति जागृत हुए हैं स्वयं के अधिकार के प्रति।
हम सितारों में लगे हैं खोजने अपनी जगह को,
किन्तु अपनी दृष्टि की गति हो गयी जलधार के प्रति।
शीश से ऊपर उठाकर हाथ दीपक ले खड़े,
गालियाँ बकने लगे हैं व्यर्थ ही अँधियार के प्रति।
हाट की हर चिल्लपों पर ध्यान इतना दे रहे,
हम अजाने हो गये हैं स्वयं की झनकार के प्रति।
जब हमें निज के लिए कुछ गीत गाने चाहिए,
मुंह उठाये रागिनी अल्ला रहे दरबार के प्रति।

सोमवार, 23 अक्तूबर 2017

न मिली

कभी मकां बदला, कभी दुकां बदली।
जिस गली में वो था वही गली न मिली।
तुम भी मेरी जमात के लगते हो प्यारे।
कभी खोपड़ी न हिली कभी कमर न हिली।।

रविवार, 22 अक्तूबर 2017

बीमारी

ब्याही है या फिर कुंवारी बता दे।
कहाँ जा रही ये सवारी बता दे।।
बड़ी डिग्रियाँ हैं बड़ा डॉक्टर है।
मगर मुझको मेरी बिमारी बता दे।।

शुक्रवार, 20 अक्तूबर 2017

दुनिया

नजर.के सहारे चला जा रहा हूँ।
कोई बता दे कहाँ जा रहा हूँ।
दुनिया अजब सा तिलिस्मी सफर है,
जहाँ जा रहा हूँ वहीं आ रहा हूँ।

हमारीवाणी

www.hamarivani.com