मंगलवार, 13 जुलाई 2021

जीवन के अंग

यह दुबली पतली काया श्री जय जय राम निवासी ग्राम उरली वि0ख0 टोडरपुर हरदोई की है। मेरे जीवन से यदि इस व्यक्ति को हटा दें तो शायद मैं ही न रहूँ न रहेगा माँ भारती विद्या मन्दिर पूर्व माध्यमिक विद्यालय अयारी, हरदोई। 1998 में मुझसे और मेरे विद्यालय से जुड़कर हम दोनों का जो पथ प्रदर्शन किया है वह अनवरत जारी है। यद्यपि पिछले कुछ वर्षों से विद्यालय में उपस्थित नहीं हो रहे हैं फिर भी हम दोनों की आत्मा के बन्धन बड़े मजबूत हैं।
लगभग 17 वर्ष विद्यालय में सेवा के मध्य ऐसे भी क्षण उपस्थित हुए जिनमें मनमुटाव भी हुआ लेकिन बिल्कुल वैसे ही जैसे पिता पुत्र के मध्य होता है। यद्यपि वह मेरे पिता नहीं हैं जाति के सन्दर्भ में भी मैं ब्राह्मण और यह चमार लेकिन मैंने सदैव इनकी उपस्थिति में एक अभिभावकीय संरक्षण अनुभूत किया है। कभी यह अनुभव नहीं हुआ यह अध्यापक हैं और मैं प्रबंधक सदैव यही लगा मेरे परिवार के हैं।  मुझे अच्छी तरह से याद है जुलाई 1998 में 118 छात्रों से विद्यालय शुरू हुआ और अगस्त 1999 में विद्यालय की छात्र संख्या केवल 85 रही। मैंने इनसे कहा कि बच्चों से कह दो कि कल दूसरे विद्यालय में प्रवेश ले लें मैं विद्यालय बंद कर रहा हूँ। तो इन्होंने जवाब दिया कि जब तक 5 बच्चे आते रहेंगे यह विद्यालय रहेगा और मैं इसका अध्यापक। मैंने कहा 5 बच्चों में आप और अन्य अध्यापकों का वेतन कैसे निकलेगा। तो जवाब मिला अन्य का मुझे पता नहीं मैं यहाँ पैसे के लिए नहीं आता। यह एक जवाब इतना महत्वपूर्ण है मेरे लिए कोरोना के समय जब विद्यालय बंद हुआ तो विद्यालय की छात्र संख्या 650 है और छप्पर की जगह पक्की बिल्डिंग है। 
हम दोनों एक दूसरे को समझते भी बहुत हैं एक दिन साहब किसी बात पर नाराज हुए रजिस्टर पर कलम पटका और कहा विमल भइया कल से मेरा इस्तीफा। मजे की बात उस समय मेरे विद्यालय में एकमात्र यही अध्यापक थे। गुरु जी चले गए तो एक बच्चे ने पूछा कि कल गुरु जी आएंगे नहीं पढ़ाई कैसे होगी। मेरा स्पष्ट जवाब था कि कल पढ़ाई होगी और यही गुरू जी आकर पढ़ायेंगे। बच्चों को मेरी बात पर विश्वास ही नहीं हुआ। लेकिन अगले दिन जैसे ही बच्चों ने गुरू जी की साइकिल विद्यालय की ओर आते देखी तो मारे खुशी के सब चिल्लाने लगे। मेरी आँखों में आँसू थे कि ईश्वर ने मेरे विश्वास की लाज रखी। 
एक बार और गुरू जी नाराज हुए तो जो इन्हें नहीं कहना था वह सब मेरे बारे में कह डाला और क्रोध आने पर मैंने भी इन्हें बहुत कुछ अनुचित कहा। लगभग एक वर्ष विद्यालय नहीं आये। कई महीने बाद एक दिन आमना सामना हुआ तो मैंने हालचाल पूछ लिया तो बताया बीमार रहते हैं। मैंने दवा के बारे में पूछा तो कहने लगे विमल भाई मैं बीमार इसलिए रहता हूँ कि मैं घर पर पड़ा रहता हूँ अगर पढ़ाने लगूँ तो ठीक हो जाऊँगा। मैंने कहा इतने विद्यालय हैं कहीं भी पढ़ाने लगो। तो जवाब मिला अगर पढ़ाएंगे तो मेरे ही विद्यालय में नहीं तो बीमार ही ठीक। मैंने भी कह दिया विद्यालय मेरा नहीं है आपका है और उसके बाद फिर विद्यालय में छह वर्ष पढ़ाया।
आज मुलाकात हुई तो हृदय प्रसन्न हो गया। ईश्वर इन्हें दीर्घायु करें और मेरे पर छत्रछाया बनाए रखें। अभी बहुत कुछ सीखना है।

मंगलवार, 29 जून 2021

शहद के साथ

डॉक्टर ने दवा शहद के साथ बताई,
मैंने उसके अधरों से छुआ के खाई,
फायदा नुकसान मुझे मालूम नहीं,
राह में क्लीनिक दुबारा नहीं आई।

सोमवार, 28 जून 2021

कृपया, इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें

प्रायः बहुत सी वस्तुओं के पैक पर लिखा होता है, "कृपया, इसे बच्चों की पहुँच से दूर रखें।" जब से इन्टरनेट आया है तब से प्रायः वीडियो इत्यादि पर लिखा होता है, "बच्चे नहीं देखें।" एक शब्द परिचय में आया, "पैरेन्टल कन्ट्रोल।" तात्पर्य कि मोबाइल या कम्प्यूटर में ऐसी सेटिंग्स कि बच्चों को कुछ सामग्री देखने से रोका जाए। 
एक दिन मेरी संवेदना जाग पड़ी कि इस संदर्भ में भी कुछ लिखा जाए तो कलमघसीटी चालू हो गई। अगर पैक या वीडियो पर चेतावनी न भी दी हो तब भी हमारी प्रवृत्ति है कि हम आदिकाल से बच्चों से बहुत सी चीजें छिपाते चले आए हैं। यह अलग बात है कि हम बच्चों से जो छिपा रहे होते हैं बहुत बार वह उन्हें पहले से पता होता है या वे चीजें उनकी पहुँच में होती हैं।
मुझे एक घटना तब की याद है जब मैं जनरल स्टोर का व्यवसाय करता था। एक दिन एक बच्चा जिसकी उम्र कोई दस वर्ष के अन्दर ही रही होगी मेरे पास कन्डोम का पैकेट लेन आया। तो मैंने उससे दो रूपये लिए और पैकेट दे दिया। बच्चे ने मुझसे पूछा कि इस पैकेट में क्या है? तो मैंने उससे कहा कि वह इस चक्कर में न पड़े और जिसने मँगाया हो उसे जाकर दे दे। किन्तु बच्चा तो बच्चा। उसने कहा कि वह पैकेट खोलकर जरूर देखेगा। मैं क्या कर सकता था? बच्चे ने पैकेट खोलकर देखा और जबरदस्त टिप्पणी की, "अच्छा, अब हम समझे काहे भाभी ने कही हती चुप्पइ हमइ दिअउ आइ कोइक बतइउ ना।" मुझे नहीं मालूम वह बच्चा क्या समझा क्या नहीं किन्तु मुझे उसकी समझ पर शंका भी नहीं।
एक साहब का किस्सा मुझे याद आता है कि उनके पास ऐसा ही एक पैकेट था, बच्चों की पहुँच से दूर रखने के लिए। उन्होंने नौ फुट ऊँची टाँड़ पर डिब्बे को सबसे पीछे हर सामान के पीछे रखा। मगर बच्चे खेलने लगे गेंदबाजी का खेल कमरे के अन्दर और गेंद भी कम्बख्त क्या उछली सीधे टाँड़ पर और डिब्बे के पीछे। बच्चों ने तख्त पर मेज और मेज पर कुर्सी और कुर्सी पर पाटा रखा और लगा दी स्वर्ग में सीढ़ी। मुझे रावण याद आ गया सुना है उसने सोने की सीढ़ी बनवाकर स्वर्ग तक लगाई थी। बच्चों ने हाथ बहुत आगे तक बढ़ाया किन्तु गेंद तो हाथ नहीं आयी नालायक डिब्बा हाथ आ गया।
अगली बार ऐसे ही किसी डिब्बे को बक्स के अन्दर ताला लगाकर रखा यह फार्मूला तो बिल्कुल ही बेकार निकला बच्चा शैतानों का सरदार निकला। छोटा बता रहा था कि बड़का ताले को हाथ लगाये बगैर ही बक्से का माल पार कर सकता है बस एक पेंचकस चाहिए। वह बक्से को आगे से नहीं पीछे से खोलेगा।
अगली बार साहब ने उस डिब्बे को कबाड़ यानी बेकार का सामान जो चलन से बाहर व निष्प्रयोज्य हो उसमें डाल दिया और सोचा बच्चे यहाँ न पहुँचेंगे। एक दिन साहब घर से बाहर और कबाड़ी घर के अन्दर। बच्चे सामान की छँटनी में जुटे तो डिब्बा उनकी नजर से कैसे बचता? 
भइया घर घर है और बच्चे भगवान। भगवान यानी अन्तर्यामी। घर में मेरी पहुँच दो एक कमरों में और बच्चों की घर के कोने कोने में। तो बच्चों की पहुँच से दूर रखना बहुत बड़ा दायित्व है। 
कुछ चर्चा मोबाइल और कम्प्यूटर में पैरेन्टल कन्ट्रोल की। कैसे करें? 
आजकल एक वाक्य कहा जाता है कि शाम को मोबाइल की मेमोरी डिलीट करके सोयें वरना मरने के बाद लोग जान जायेंगे कितना भला आदमी था। अब इसका भी बड़ा विचित्र किस्सा है। एक साहब गोवा पहुँचे, मौजमस्ती की। अपने कैमरे से फोटो खींची। वापसी में उन्हें लगा कि कैमरे में कुछ फोटो सेहत के लिए हानिकारक हैं अतः एक एक कर बहुत सारी फोटो उन्होंने डिलीट कर दीं। थोड़े दिनों के बाद एक कार्यक्रम की फोटोज उसी कैमरे से खींची गईं और असावधानीवश कैमरे की मेमोरी फार्मेट हो गई। तमाम लोगों से राय मशवरे के बाद भी फोटोज वापस आने का कोई रास्ता न सूझा तो एक दिन एक बच्चे ने अपना दिमाग लगाया और कम्प्यूटर में एक सॉफ्टवेयर लोड करके फोटोज रिकवर कीं तो वे फोटोज भी रिकवर हो गईं जो साहब की सेहत के लिए हानिकारक थीं। तो मेमोरी डिलीट करने का फार्मूला फेल है।
फोल्डर या कम्प्यूटर को पासवर्ड भले ही बड़े लोग न तोड़ पायें किन्तु बच्चे खेल लेते हैं पासवर्ड से। मैं क्या तमाम अधेड़ उम्र के लोग बड़े पैमाने पर अपनी कम्प्यूटर और मोबाइल की छोटी छोटी समस्याओं के लिए बच्चों पर ही निर्भर हैं। ऐसे में पैरेन्टल कन्ट्रोल सबसे वाहियात विचार है। प्रायः बड़े ऑनलाइन शॉपिंग की उतनी समझ नहीं रखते जितनी बच्चे। सेटिंग सम्बन्धी मामलों में भी बच्चे बहुत आगे निकल गए। मुझे तो विलियम शेक्सपियर की बात बिल्कुल जमती है, "चाइल्ड इज फादर ऑफ द मैन।" तो भइया एक ही विकल्प है बच्चा हो जाओ और घर में, मोबाइल में या कम्प्यूटर में कोई ऐसी चीज मत लाओ जो बच्चों की पहुँच से दूर रखनी पड़े। एक बात और 
मोबाइल ने बच्चों को बच्चा नहीं रखा।
यहाँ ऐसा कुछ नहीं बच्चों ने नहीं चखा।



बुधवार, 23 जून 2021

कवि की मौलिकता

मेरे एक मित्र का  प्रश्न था , "बंधु क्या कोई भी कवि मौलिक रहा, है या होगा?" मैंने जो उत्तर लिखा शायद वह आपके मतलब का हो।

मौलिक तो केवल ईश्वर है। कविता के सन्दर्भ में मौलिक होना अलग बात है। कविता के दो पक्ष हैं भाव पक्ष और कला पक्ष। कोई कवि अपने अनुभवजन्य हृदयोदगारों को अपने ढंग से प्रस्तुत करता है तो वह मौलिक ही माना जाता है। नये बिम्ब व नवीन उदाहरण का प्रयोग भी मौलिकता की श्रेणी में आता है। होता क्या है जब से फेसबुक आया है और उससे पहले भी लोग दूसरों की कविता अपनी बताकर ज्यों की त्यों सुना देते थे और छोटे समाचार पत्रों इत्यादि में छपवा तक देते थे। जब तब बेइज्जत भी होते थे।
आजकल भी फेसबुक पर कोई अच्छी सी कविता को मिनटों में तमाम कवि अपनी बता  देते हैं। कुछ होशियार किस्म के चोट्टे आजकल शब्दों में थोड़ी बहुत छेड़छाड़ कर कुछ नये शब्द जोड़कर दूसरों की कविता को अपनी बना लेते हैं। छन्द को स्वच्छंद कर कीचड़ से कलाकन्द हो जाने का भ्रम पाल लेते हैं। ऐसी कविता फेसबुक पर लाइक और कमेन्ट की संख्या बढ़ा सकती है किन्तु उसे कितने समय तक लोग याद रखेंगे भगवान ही जानता है। समय की कसौटी पर ऐसे कवि कवि मौलिक अमौलिक किसी भी श्रेणी में नहीं आते। स्वयं ऐसे कवि अपने हृदय पर हाथ रखकर देखें और याद करें कि आज कितनी रचनाएं उन्होंने मनोयोग से पढ़ने के बाद लाइक कीं या उनपर कमेंट कीं। तब यह सोचें कि उनके लाइक और कमेंट में कितने लाइक व कमेन्ट उनकी रचना को पढ़कर हुए होंगे यकीन मानिए बहुतों को अपने कवि होने पर ग्लानि हो जाएगी।
आप मौलिकता-अमौलिकता के चक्कर में न पड़ें। आपके अनुभव में जो आपके हृदय से छनकर आये वह व्यक्त करें तो कोई उंगली नहीं उठायेगा। वैसे भी मैं अनुभव कर रहा हूँ पिछले कुछ समय से आपका पुनर्जन्म हो गया है। एक अच्छा प्रश्न करके मुझे गद्य लिखने को प्रेरित करने के लिए धन्यवाद।

सोमवार, 21 जून 2021

महबूब

अब न हाथ में किताबें, कन्धों पर बस्ते होंगे,
सड़क पर मिल जायें तो भी एक न रस्ते होंगे।
जो बिक चुके हैं दूसरे की दहलीज पर प्यारे,
क्या करें महबूब का महबूब जो सस्ते होंगे।।
अन्तर्जाल से साभार

शुक्रवार, 18 जून 2021

विषधर

तुम भी तने रहे, हम भी तने रहे।
गड्ढे भरी घृणा, उसमें सने रहे।
ताबूत बन गए, खुद के लिए हमीं,
अमरित भरा रहा, विषधर बने रहे।।

गुरुवार, 10 जून 2021

अगले किसी मोड़ पर

ऐ! गुलब्बो,
ये तय है कि अगले किसी मोड़ पर मेरी तेरी राहें अलग हो जाएंगी। कुछ दूर तक एक दूसरे को शायद देखते भी रहें, किन्तु कहाँ तक? उसके बाद रहेंगी स्मृतियाँँ या वे भी नहीं। सौ वाट का बल्ब जलते ही पाँच वाट के बल्ब पर ध्यान कहाँ जाता है। फिर क्या प्रेम क्या घृणा दोनों को हृदय में रख पाना कठिन हो जाएगा। तो क्यों नहीं वर्तमान को मिठास से भर दें और घृणा का परिहास कर दें। अपने हृदय में झाँककर देखो और प्रेम तथा घृणा को पृथक पृथक पहचानने का यत्न करो। असफल हो गए न। जब प्रेम दिखता है तो घृणा नहीं और जब घृणा दिखाई दी तो प्रेम नहीं दिखाई दिया। क्यों? वास्तव में प्रेम और घृणा का पृथक पृथक अस्तित्व ही नहीं है। वे दोनों तो एक ही हैं। प्रेम और घृणा का एक एक कर दिखाई देना तो हमारी आँखों पर चढ़ी ऐनकों के कारण है। लाल गुलाब हरी ऐनक से बैंगनी दिखता है और पीली ऐनक से नारंगी। किन्तु गुलाब तो गुलाब ही है।
मैंने छोड़ दिया है तुममें भविष्य को देखना तुम भी छोड़ दो मुझमें अपने भविष्य को देखना। रेल की दो पटरियों की तरह साथ साथ होने का भ्रम मत पालो। दूर दूर रहकर भी जब तक साथ दिखाई पड़ रहे हैं तब तक स्लीपरों के सहारे टिके रहने का आनंद उठा लो। जैसे ही जंक्शन आयेगा दोनों का साहचर्य परिवर्तित हो जायेगा। फिर एक दूसरे के मार्ग की स्टेशनें पृथक हो जायेंगी।
तुम्हारा वर्तमान

गुरुवार, 3 जून 2021

दोपहर

जीवन की दोपहर बीतने वाली है।
तन है तृप्त तृषित मन सम्मुख, 
घट थोड़ा सा खाली है।
कहने को ही समय बहुत है,
छिपी काल की व्याली है।

हमारीवाणी

www.hamarivani.com
www.blogvarta.com