शनिवार, 13 जनवरी 2018

अभिमन्यु



अर्जुन होना जीवन रण में नहीं बहुत आसान|
कृष्ण सारथी होंगे जिसके जिये वही मैदान|
जीवन के हर चक्रव्यूह का मैं ही द्रोणाचार्य|
निज वध को अभिमन्यु बनूं मैं इतना भी अनिवार्य|
उर में बचकानापन हावी बुद्धि अधूरा ज्ञान|
उतर पड़ा हूँ महासमर में क्या राखे भगवान?
 





कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें











हमारीवाणी

www.hamarivani.com