रविवार, 30 अक्तूबर 2011

पंछी उड़ जा


इस पल दो दानों का लालच, फिर आजीवन पराधीनता।
पंछी उड़ जा पंछी उड़ जा पंछी उड़ जा पंछी उड़ जा,
उधर नीड़ में कोई तेरा पन्थ हेरता होगा।
मम्मी पापा कह कह कातर स्वरों टेरता होगा।
तेरे मुहँ में जो भोजन है क्या पर्याप्त न होगा।
यह दाने तो माया मृग हैं, ठीक नहीं है इधर लीनता।
पंछी उड़ जा पंछी उड़ जा पंछी उड़ जा पंछी उड़ जा|
सड़क
दूर क्षितिज पर जहाँ एकाकार है धरा और अम्बर, सड़क निज के समाप्त होने की प्रतीति देती है, किन्तु होती नहीं समाप्त।
ध्येय पर पहुँच कर भी बढ़ लेती है अन्यत्र किसी दूसरे ध्येय की ओर जिस पर चलने को आतुर होते हैं पथिक।
ऐसी ही किसी सड़क पर मैं तुम और सारा संसार गतिमान है।
चलते रहो यही जीवन का साधारण सा अंकगणित है।
जिसने समझा उसी ने विकास के प्रतिमान गढ़े।
बटमारों के प्रति
तुम भी कितने हो दीन मित्र, खाना पड़ता है छीन मित्र, सुनते न काल की बीन मित्र, मति से पैदल यश हीन मित्र।

शनिवार, 29 अक्तूबर 2011

मोबाइल


मोबाइल भी क्या अजब गजब चीज आ गई।
जिन्दगी का चैनो सुकूँ शान्ति खा गई।
दो से छ्त्तीस हो गए बिस्तर पे हम दोनों।
फोन उनके हाथ में था काल आ गई।
काल आ गई तो साली काल आ गई।
तीन दिन से मेरा रोटी दाल खा गई।
छोटी साली घर पे मोबाइल की चिपकू आ गई।
हफ्ते भर की आय के रिचार्ज खा गई।
गुमनाम नम्बर से कोई करता है परेशान।
पूछता है बाबू जी फाईल कहाँ गई।
मिसकाल आधी रात को करता है वेवजह।
पूछ्ता है ट्रेन किस नम्बर पे आ गई।
बात पन्डित से करो मैसेज मिला मुझे।
काल छः मिनट कि छत्तीस चबा गई।
लोग मोबाइल पे क्या क्या बेचते हैं आजकल।
स्वास्थ्य, बीमा, कार, भूमि, यन्त्र जादुई।

आदमी की औकाति
पपुआइनि गुर्रानीं पप्पू मिमियाने,
आदमी की औकाति उनसे हम जाने।
पप्पू जो बोलैं वह जाइ रही थाने,
घरेलू हिंसा दहेज उत्पीड़न सैकड़ों बहाने।

शनिवार, 22 अक्तूबर 2011

नवीन संस्कृति


आज अपनी संस्कृति का पतन होता जा रहा,
हर तरफ पर संस्कृति का नशा छाता जा रहा।
है यही वह देश प्यारे विश्व का जो था गुरू।
अपनी  गरिमा का इसे अब तो पता तक न रहा।
माँ बाप के सम्मान सूचक शब्द भी अब खो गये।
माता बनी मम्मी पिता जी डैड कैसे हो गये।
आशीष पाते थे बड़ों के पैर छूकर के जहाँ।
टाटा, हैलो और हाय में हम आज कैसे खो गये।
हम आधुनिक बनने की खातिर क्य न करते फिर रहे।
अच्छे भले कपड़ों में भी पैबन्द कैसे जड़ रहे।
सोचा न था फैशन परस्ती ऐसे दिन दिखलायेगी।
रूमाल भर कपड़े में ही औरत पूरी ढक जायेगी।
नारी का आभूषण है लज्जा बात थी प्रचलित यहाँ।
पर फैशनों के दौर में हैं नारियाँ विचलित यहाँ।
सबसे अलग मैं ही दिखूँ ये होड़ इनमें लग रही।
अतएव लज्जा सो गयी निर्लज्ज्ता है जग रही।
                         अनंत राम मिश्र
                    ग्राम-औड़ेरी, तहसील-शाहाबाद
                      जिला-हरदोई (उत्तर प्रदेश)
                              भारत


बुधवार, 12 अक्तूबर 2011

जीवन में सन्तुलन


एक शिशु बाल्यावस्था,  किशोरावस्थायुवावस्था तथा प्रौढ़ावस्था से गुजरते हुए कब वृद्धावस्था को प्राप्त हो जाता है प्रायः व्यक्ति इस गतिशीलता से अपरिचित रह जाता है। शैशवावस्था व वाल्यावस्था को छोड़कर प्रायः वह , " जब से मैने होश संभाला अब तक बुद्धि नहीं आई ," "मेरे पास सब कुछ है किन्तु फिर भी कहीं कुछ कमी है," मैंने जीवन में बहुत कुछ पाकर भी कुछ नहीं पाया" जैसे जुमले बातचीत में प्रयोग किया करता है किन्तु शब्दों में इनका अर्थ व्यक्त नहीं कर पाता। ऐसा क्यों है कि सम्पूर्ण जीवन भर सीखने वाला अन्त तक अशिक्षित रह जाता है। जीवन भर धन सम्पदा का संचय करने वाला मात्र रिक्त हस्त ही नहीं अपितु आधे अधूरे मन से इस संसार से कूच कर जाता है।



समस्त घटनाओं को तीन श्रेणियों में बाँटा जा सकता है। आधिदैविकआध्यात्मिकऔर आधिभौतिक। आधिदैविक घटनाओं को हम उपलब्ध ज्ञान - विज्ञान व उपकरणों  की सहायता से समझ नहीं सकते। ऐसी घटनाओं मे कार्य कारण सम्बन्ध की सिद्धि असम्भव होती है। इनका प्रभाव शरीर व मन दोनों पर अप्रत्यक्ष रूप से पड़ता है। उदहरणार्थ - अटलांटिक महासागर में बरमूडा त्रिकोण क्षेत्र जहाँ समुद्र में जलयान व वायुयान अचानक गायब हो जाते हैंकुछ वर्षों पूर्व भारत सहित अनेक देशों में शिव परिवार की मूर्तियों द्वारा दुग्धपान , अमरनाथ की गुफा में बर्फ के शिवलिंग के निर्माण व उत्तर प्रदेश में मुँहनोचवा जैसी घटनायें विज्ञान की समझ से परे हैं। वैज्ञानिक मात्र तर्क प्रस्तुत करते हैं किन्तु घटनाओं का एक मत से यथार्थ कारण प्रस्तुत करने में असमर्थ रहते हैं। आध्यात्मिक घटनायें मनुष्य के मन श्रद्धा आस्था विश्वास ध्यान योग धर्म भगवतभक्ति आदि से सम्बन्धित हैं। इनमें कार्यकरण सम्बन्ध स्थापित करना एक सीमा तक सम्भव होता है। इनका प्रभाव पहले मन पर पुनश्च शरीर पर पड़ता है। बुद्ध द्वारा अन्गुलिमाल का हृदय परिवर्तनऋषि उपदेश द्वारा वाल्मीकि का पथ प्रदर्शनसम्मोहनतन्त्र मन्त्रधार्मिक अनुष्ठानयज्ञ इत्यादि आध्यात्मिक घटनायें हैं।
   आधिभौतिक घटनाओं में जीवन की सामान्य दैनिक वृत्तियाँ सम्मिलित हैं जिनमें कार्यकारण सम्बन्ध व्यक्त करना सरल होता है तथा जो प्रथम शरीर को तदनन्तर आत्मा को प्रभावित करती हैं। सामान्य मनुष्य को आधिभौतिक घटनायें ही सत्य प्रतीत होती हैं अन्य काल्पनिक या  मिथ्या। यही मनुष्य के अधूरेपन का कारण है। जो मनुष्य सभी प्रकार की घटनाओं को एक साथ रख कर विश्लेषण कर उनके प्रति सन्तुलन स्थापित कर लेते हैं वे सन्तोष क अनुभव करते हैं और सन्तोषी का पात्र कभी रिक्त नहीं होता।
मनुष्य प्रायः हानि की स्थिति में भाग्य जैसी आधिदैविक शक्ति को दोष देते हैं तथा विधाता को शायद यही मन्जूर थाभगवान गरीबों के साथ न्याय नहीं करता या ईश्वर ने मेरे साथ बड़ा अन्याय किया है जैसी शब्दावली का प्रयोग करते हैं किन्तु जब लाभ की स्थिति में होते हैं तो कर्म जैसी आधिभौतिक शक्ति का आश्रय लेकर यह तो मेरे ही वश कि बात थीमेरी बराबरी का दम किसमें हैमेरी जगह कोई और होता तो मिट गया होता या भाग गया होता जैसी शब्दावली का प्रयोग करते हैं। मनुष्य विस्मृत कर देता है कि उनके लाभ हानि में अनेक मनुष्यों की आकांक्षाओंसदिच्छाओंप्रेरणाओंप्रोत्साहनोंनिन्दाआशीर्वाद इत्यादि अनेक आध्यात्मिक शक्तियों का भी हाथ है। यदि मनुष्य किसी हानि लाभ के पीछे स्थित तीनों (दैविकभौतिकआध्यात्मिक) शक्तियों के प्रभाव का यथार्थपरक आकलन कर लें तो वे सुखे दुखे समे कृत्वk लाभा लाभौ जया जयौ की स्थिति को प्राप्त कर लें तब कोई सूनापन न रहेगा।

वास्तव में संसार का कोई भी मनुष्य न तो पूर्णतः सफल होता है न पूर्णतः असफल। उदाहरणार्थ महात्मा गाँधी ने सत्यअहिंसा व प्रेम का दर्शन प्रतिपादित ही नहीं किया अपितु उसे अपने जीवन में उतारा भी । इसी दर्शन को हथियार बनाकर उन्होंने स्वतन्त्र्ता संग्राम में अपनी प्रभावी भूमिका का निर्वहन भी किया किन्तु जीवन के अन्तिम दिनों में राष्ट्र विभाजन की त्रासदी ने उन्हें मर्माहत कर दिया कि उन्हें लगा कि उनका जीवन व्यर्थ गया।
आप बाजार गये मोलभाव किया किन्तु खरीदा कुछ नहीं। एक अर्थ में आप खाली हाथ वापस आये किन्तु आपके साथ बाजार के अनुभवमस्तिष्क में अंकित वस्तुओं के भावआपकी मोलभाव कर सकने की क्षमता में वृद्धि क्या कम हैजो भविष्य में लाभ पहुचायेंगे। कोई खरीददारी करके बाजार से लौटा उससे आपको ज्ञात हुआ कि जो वस्तु वह दस रूपये में खरीद लाया है उसे आप पाँच रूपये में तय करके छोड़ आये हैं। लाभ मे कौन रहा जिसने कुछ खरीदाउसे पाँच रूपये की हानि हुई किन्तु वह लाभ में है कि उसने बाजार में समय नहीं गवाँया। आप लाभ में हैं आपने बाजार को जाना किन्तु आप हानि में हैं आपने कोई वस्तु नहीं खरीदी और समय गँवा दिया। दोनों के लिये यथार्थतः प्रसन्नता या अप्रसन्नता का कोई कारण नहीं है।
   आधुनिक युग में धन साधन न होकर साध्य की भूमिका ग्रहण कर चुका है। जीवन तनावपूर्ण है। कार्य व अवकाश के मध्य कोई सन्तुलन नहीं है। आलस्य शरीर का शत्रु है किन्तु अति सर्वत्र वर्जयेत अति श्रम स्वास्थ्य व मनःशान्ति का नाशक है। स्वास्थ्य लाभ के लिये परिश्रम व विश्राम दोनों का अपना महत्व है।
अधिक धन कुकृत्यों से एकत्र होता है जो स्वयं को तथा संतति को पतन की ओर ले जाता है। फिर अधिक धन संचय की आवश्यकता ही क्या हैपूत सपूत तो क्या धन संचय पूत कपूत तो क्या धन संचयसुपुत्र आवश्यकतानुसार धनार्जन कर लेते हैं जबकि कुपुत्र संचित धन को विनष्ट कर आत्मा को क्लेश पहुँचाते हैं तब अपने कुकृत्यों पर पछ्ताने का अवसर भी नहीं मिलता।संसार में सभी कार्य धन से संपन्न होते हैं सर्वे गुणाः कांचनम आश्रयन्ते किन्तु दैवगति धन से नहीं टाली जा सकती। धनबल से अनैतिक कार्यों पर आवरण डाला जा सकता है किन्तु देर सबेर कर्मफल से नहीं बचा जा सकता है। धनबल चाटुकारों को शरण दे सकता है किन्तु सच्चे मित्रों को आपका सद्व्यवहार ही आकर्षित कर सकता है। धनबल भौतिक सुख सुविधायें एकत्र कर सकता है किन्तु सुख शान्ति आपके सुकर्म ही दे सकते हैं। धन मनुष्य को दास बना लेता है स्वन्त्रता प्रदान नहीं करता। धन मनुष्य को उस हाथी के समान बना देता है जो आत्मिक बल से युक्त सिंह का सामना नहीं कर सकता। अतः धन व इससे सम्बन्धित सभी चीजों में मनुष्य का दृष्टिकोण संतुलित होना चाहिये। धन आवश्यक है किन्तु उसके लिये पागल होना उचित नहीं।  
     

  
    मनुष्य भी क्या करे इच्छायें अनन्त होती हैं जिनकी पूर्ति के लिये वह निरन्तर शक्तिशाली होने का यत्न करता है तथा भूल जाता है कि दो पैरों का विवेकशील मनुष्य चन्द्रमा पर अपने पैरों के निशान छोड़ आया है किन्तु अविवेकी मकड़ा आठ पैरों से युक्त होकर भी अपना जाला छोड़कर कहीं नहीं जा पाया। तात्पर्यतः शक्तिशाली होने के लिये आठ पैर आवश्यक नहीं अपितु दूरदृष्टि व दृढ़ इच्छाशक्ति आवश्यक है। मनुष्य को चाहिये कि शक्ति अनुसार ही इच्छाओं को विस्तार दे।
   निष्कर्षतः सुखी, आशापूर्ण व कल्याणमय जीवन की सम्प्राप्ति में जीवन के विभिन्न पक्षों यथा कर्म, भाग्य, आवश्यकता, इच्छा, सामर्थ्य, धन, कार्य, अवकाश, नैतिकता, सद्व्यवहार, लाभ, हानि, इत्यादि के सम्बन्ध में सन्तुलित व सामंजस्यपूर्ण जीवनदृष्टि नितान्त आवश्यक है।


गुरुवार, 6 अक्तूबर 2011

आज सुबह

. आज सुबह
आज सुबह कुछ नई नवेली]
दुल्हन सी सकुचाती आई।
नील गगन पर रौनक छाई]
जन जन को हर्षाती आई।
पक्षी चहके चीं चीं करके]
पेड़ों पर दीवाली छाई।


२. आसान
कम साथ में जितना सामान होगा सफर आपका उतना आसान होगा]
न बोरी न बिस्तर न खाना न कपड़ा तो फिर जिन्दगी में काहे का लफड़ा।

हमारीवाणी

www.hamarivani.com