रविवार, 3 अप्रैल 2022

नया शगल

पावर में आकर गरियाना नया शगल।
जबकि पता है जो भी आया लिया निकल।।1।।
लोकतंत्र में हाथापाई जायज है।
कुर्सी पर बैठे हैं फिर क्यों उखल-बिखल।।2।।
अब सच्चा इतिहास लिख रहे, उजले ठग।
गंजों के सिर पर हैं कीलें रहीं मचल।।3।।
सच कहने की कीमत मैं दे डालूँगा,
संभव नहीं कींच-कच्चड़ में पड़ूँ फिसल।।4।।
'मुँह में राम बगल में छूरी' सत्य कहा है,
राम संग माया का रहना तथ्य सरल।।5।।
देशद्रोहियों में लिख जाना अच्छा है।
खुद की नजरों में गिर जाना नहीं 'विमल'।।6।।
विमल 9198907871

25 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 05 अप्रैल 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. सच खुद की नज़रों में जो गिर गया वह क्या इंसान?

    जवाब देंहटाएं
  3. देशद्रोहियों में लिख जाना अच्छा है।
    खुद की नजरों में गिर जाना नहीं 'विमल'

    कुछ जंचा नहीं मित्र
    देश में रहना और खाना खराब नहीं तो देशद्रोह में लिखना क्यों अच्चा है, विरक्ति किसी व्यक्ति विशेष तंत्र में बैठे अधिकारी, राजनेता या पार्टी से हो सकता है,

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉग पर आकर टिप्पणी करने के लिए हार्दिक आभार बड़े भाई

      हटाएं
  4. देशद्रोहियों में लिख जाना अच्छा है।
    खुद की नजरों में गिर जाना नहीं 'विमल'।
    अब सच कहा तो देशद्रोही तो कहलायेंगे ही...
    बहुत खूब ।

    जवाब देंहटाएं
  5. सुंदर प्रस्तुति !!

    जवाब देंहटाएं
  6. सत्ता में आकर किसी को किसी का होश कहाँ??संभवतः पाँच सालों में चार साल एक दूसरे की टाँग खिंचाई में ही निकल जाते हैं।सार्थक और सटीक व्यंग विमल भाई।लिखते रहिए,मेरी शुभकानाएं 🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  8. 'सोद्देश्यता कला की आत्मा होती है' इस तथ्य को रेखांकित करती अत्यंत सार्थक और सारगर्भित रचना। बधाई और आभार।

    जवाब देंहटाएं











हमारीवाणी

www.hamarivani.com
www.blogvarta.com