गुरुवार, 27 मई 2021

छवि चित्र

मेरा उनका एक साथ छवि चित्र नहीं है।
सब मित्रों में उनके जैसा मित्र नहीं है।
सबमें बांंटूँ अंतरंगता शोर करूँ क्यों?
कस्तूरी है, बाजारों का इत्र नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें











हमारीवाणी

www.hamarivani.com