बुधवार, 28 फ़रवरी 2018

होली खेल जाये

काश मय के साथ,
पैमाना नाच उठे,
और उड़ेल दे चारों ओर,
बसंत की मादकता,
और भुला दे कि आप,
कुछ और नहीं इसी फागुनी पवन के,
अंश हैं|
अर्धांगिनी,
मोहिनी नजर आये,
वो जिसने,
वैलेंटाइन पर उपहार,
न स्वीकारा हो,
आपके साथ होली खेल जाये|
ऐसी विमल भावना के साथ विमल की विमल शुभकामनाएँ जिनमें आप अपनी इच्छा से कोई भी रंग मिलाने के लिए स्वतंत्र हों|



कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें











हमारीवाणी

www.hamarivani.com