शुक्रवार, 12 जनवरी 2018

नवद्वीप या नदिया



यह स्थल मध्यकाल में बंगाल की राजधानी रहा है| 1204-05 में मुहम्मद गोरी के सिपहसालार इख्तियारुद्दीन-बिन-बख्तियार खिलजी ने जब बंगाल की राजधानी नदिया में प्रवेश किया तो यहाँ का शासक लक्ष्मणसेन भाग खड़ा हुआ| 1485 में यहीं चैतन्य महाप्रभु का जन्म हुआ था, जो कि प्रसिद्ध कृष्णभक्त थे| यह स्थान न्यायशास्त्र के अध्ययन का प्रमुख केंद्र था| 





कृपया पोस्ट पर कमेन्ट करके अवश्य प्रोत्साहित करें|

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें











हमारीवाणी

www.hamarivani.com